SCHOOL IN SARSAWA SAHARANPUR

SCHOOL IN SARSAWA

SCHOOL IN SARSAWA

Sarsawa is a Small city close to Saharanpur and Yamunanagar. it is on the edge of Uttar Pradesh state near Yamuna river. Airforce station and Army also have a presence here. it is surrounded by villages and farmers so due to huge demand School in Sarsawa are in Big number and in this article, I try my best to list down each of it.

SCHOOL IN SARSAWA

1.kendervidhalya ( CBSE board, air force station).

website- https://sarsawa.kvs.ac.in/

2.St marry academy ( CBSE board, Ambala road, near Rao Dharam Kata).

website – http://www.stmarysacademysarsawa.org/

3.Air force public school (CBSE board., air force station).

website – https://www.afssarsawa.org/

4.KLG Public school (CBSE board, Ambala road near Ratna Sagar).

website- http://www.klgpsambalaroad.com/

5.MTS public school ( CBSE board, Nakur road).

website- http://www.mtspublicschool.ac.in/

6.Gurukul education world (CBSE board, Nakur road, near Bankhandi temple).

website- https://www.gurukuleduworld.com/

7.Janta inter-college (UP board, railway road).

Google map location link – https://goo.gl/maps/c2ok6aNeqYyRSNEs5

SCHOOL IN SARSAWA8.DC Jain ( UP board, Ambala road, near Punjab and Sindh bank).

Google map location link – https://goo.gl/maps/xCPiFMcpTMdoLFah7

9.AK public school ( CBSE board, Naresh vihar colony).

FB page – https://www.facebook.com/AKPublic-School-1065111206961954/

Google map location- https://goo.gl/maps/Pci8ZHeHsDZEdicG9

10.Mother Teresa public school ( CBSE board, Ambala road).

Website- http://mtpssar.com/

11.Tagore public school ( cbse board, yasveer lane).

FB page – https://www.facebook.com/pages/tagore-public-schoolsarsawa-uttar-pradesh/323214611190304

12.National public school ( CBSE board, Nakur road, near Bharat Doodh dairy).

Google map location – https://maps.app.goo.gl/uGQ234XhxHEvkXZ16

13.DAV public school (state board,  )

14.KSF high school ( Sarsawa block).

15.Vadram Nathbol academy ( Sarsawa block).

16.Jwahar school (puri afanan, near post office).

17.Mardon public school (Sarsawa block).

SCHOOL IN SARSAWA

This above article is written by Shanu  Chaudhary (a residence of Sarsawa)

Also, read this – https://thepuresoul.in/sarsawa-history/

Subscribe my Youtube Channel – https://www.youtube.com/subhashchaudhary

सरसावा का इतिहास SARSAWA HISTORY

सरसावा का इतिहास

आज हम सरसावा का इतिहास के बारे में बता रहे हैं. सरसावा एक छोटा सा कसबा है, जो उत्तर प्रदेश के उतरी भाग पर स्थित है. इसके दाहिनी ओर दो शहर है. जिनका नाम सहारनपुर और यमुना-नगर है. सरसावा में ऐसी बहुत सी ऐतिहासिक चीज़े है, जो आज तक सरसावा को ऐतिहासिक बनाएँ रखती हैं. जैसे प्रमुख टीला, हवाई अड्डा,एक पुराना मंदिर , यहाँ पर पहले पिक्चर हाल भी था. आओ आपको सरसावा कि प्रमुख चीजों से आबरू कराते हैं.

सरसावा का पुराना नाम शिरसागढ था यह माना जाता है कि यहाँ जहारवीर जी कि माँ का परिवार था और उनकी माँ का नाम काछल, बाछल था. यहाँ पर उनके नाम का मंदिर बना हुआ है.

सरसावा में स्थित पहाड़ी नुमा टीके को कोट के नाम से जाना जाता है.यह जिला मुख्यालय से 15 किलोमीटर दूर है. संस्कृत में कोट का अर्थ किला होता है. इससे माना जाता है पहले यहाँ किला रहा होगा सैकड़ों बिघा में फैले इस टीले से वर्ष 1972 में सिक्के, मिट्टी के बर्तन व काले पड चुके अनाज के दाने मिले थे यह चीजें ज्यादातर वर्षा के मौसम में पाई जाती थी. क्योंकि वर्षा के कारण मिट्टी टीले से बह जाती थी और सिक्के दिखाई देते थें. इस स्थान कि तार बंदी करा यहाँ एक चौकीदार नियुक्त किया था, और दरवाज़ा भी लगाया था.

 

dessert shop-सरसावा का इतिहास

samosh chaat-सरसावा का इतिहास

 

 

यह टीला किस कारण बना और क्यों(सरसावा का इतिहास)?

बड़े बुजुर्ग हमें यह बताया करते थे. की यहाँ एक राजा का महल था और वहाँ जब किसी कि नई शादी होतीं थी, तो उसकी पत्नी को एक रात अपने महल में रखता था, और फिर एक लड़की की शादी हुई और राजा ने उसे अपने महल में बुलवाया और तब उसने कहा कि अगर मैं शत की हूँ तो हे भगवान ये महल पलट जाए, वह महल पलट गया और टिला बन गया, आज भी टिले के ऊपर पिर है, आज भी वह स्थान सबसे ऊँचा है.

सरसावा में एक शिव जी का पुराना मंदिर है, जिसको बनखणडी के नाम से जाना जाता है, और इसे बनीं भी कहते हैं.यह कबरिस्तान के ऊपर है, इसे लोग पहले से जानते थे.यह एक पत्थर का शिव लिंग और लोगों ने उसे बहुत बार तोड़ने की कोशिश की पर वह फिर से शिव लिंग का आकार ले लेता था, जिसके कारण अब यहाँ शिव का मंदिर है.उन लोगो को कबरिस्तान की जगह दे दी गई है, उस जगह पर अब मदरसा है. यहाँ पर एक पिक्चर हाल हुआ करता था, लेकिन अब नहीं है.

सरसावा में एक प्रमुख हवाई अड्डा भी है, वह भी बहुत पुराना है. जिसके कारण सरसावा को जाना जाता है, और यहाँ लोग दूर दूर  से हवाई अड्डा को देखने आते है, पहले इस अड्डे के बारे में बहुत कम लोगों को पता था, पहले यह अड्डा गुप्त था.

PHOTO GALLERY

sarsawa sweet shop-सरसावा का इतिहास
One of the Famous Mithaiwala in Sarsawa
mustard oil
mustard oil seller in Sarsawa
mustard oil expeller
Mustard oil Expeller ins Sarsawa
mustard oil shop-सरसावा का इतिहास
me at mustard oil shop
market in sarsawa
Mobile shop in sarsawa
bajrang chaat-सरसावा का इतिहास
famous street foot chaat wala in sarsawa- bajrang chaat
सरसावा का इतिहास
nakur road sarsawa
सरसावा का इतिहास
jewellery shop in sarsawa

 

सरसावा का इतिहास
सरसावा का इतिहास

This article is written by a Sarsawa City Residence only- Ms Shaanu Chaudhary ( she is studying in college right now)

You can also read – https://thepuresoul.in/village-life-in-india/

my youtube channel and about me  – https://thepuresoul.in/about-us/about-me/

 

Translate »